नगर प्रतिनिधि

वाराणसी। गंगा नदी वॉटर बोर्ड से खतरनाक स्टंट चर्चा का विषय बना हुआ है। इसके साथ ही घाटों पर रहने वाले लोगो में दहशत का माहौल भी है। बीच नदी में ये स्टंट बदस्तूर जारी है। जिला प्रशासन मूक दर्शक बन शायद बड़ी घटना का इंतजार कर रहा है। दरअसल 2019 में ही वाराणसी में गंगा नदी में वॉटर एडवेंचर को लेकर पर्यटन विभाग ने योजना बनाई जिसको लेकर कुछ कंपनियों ने इसकी शुरुआत भी की। वॉटर एडवेंचर को लेकर गंगा नदी में स्टीमर और अन्य वॉटर व्हीकल उतारे गए, ताकि यहां आने वाले पर्यटक इसे पसंद करें। हालांकि कोरोना काल के कारण ये योजना ठंडे बस्ते में चली गई लेकिन लॉकडाउन खुलने के बाद एक बार फिर से इसे लागू किया गया।

अब यही वॉटर एडवेंचर किसी बड़े हादसे को दावत दी रहे हैं। स्थनीय लोग इसे लेकर काफी दहशत में हैं। घाट पर नाविक ये स्टंट देखकर भयभीत हैं। अस्सी घाट रहने वाले नाविक भरत का कहना है कि स्टीमर द्वारा ऐसा खतरनाक स्टंट प्रतिदिन किया जाता है। वो भी सवारी बैठा कर कुछ जबकि बिना लाइफ जैकेट के। जिस तरह से वोट को गंगा में घुमाया जाता है वो बड़े हादसे को दावत दे रहा है। हम लोग देख के सहम जाते हैं।

वॉटर बोट को चलाने वाला ड्राइवर बेहद खतरनाक तरीके से बीच गंगा में बोट को घुमाता है जिससे बोट एकदम से पलटने लगती है। भले ही ड्राइवर प्रशिक्षित हो लेकिन किसी दिन एक भी चूक हुई तो परिणाम बहुत खतरनाक होंगे। जाहिर सी बात है कि जिस तरह से इस वॉटर बोट से खेल किये जा रहे हैं, उससे साफ लगता है कि जिला प्रशासन की तरफ से इसके चलने को लेकर कोई मानक तय नहीं किया गया है।

33 COMMENTS

  1. You can certainly see your expertise in the work you write. The world hopes for more passionate writers like you who are not afraid to say how they believe. Always follow your heart.

  2. I do love the way you have framed this specific difficulty plus it really does present us a lot of fodder for thought. However, from everything that I have experienced, I just simply hope as other opinions stack on that folks remain on issue and in no way get started upon a soap box associated with the news du jour. All the same, thank you for this exceptional point and although I can not really concur with this in totality, I value the perspective.

  3. Hi this is kinda of off topic but I was wondering if blogs use WYSIWYG editors or if you have to manually code with HTML. I’m starting a blog soon but have no coding knowledge so I wanted to get guidance from someone with experience. Any help would be greatly appreciated!

  4. Together with every thing which seems to be building inside this area, all your viewpoints tend to be somewhat stimulating. However, I am sorry, because I can not give credence to your entire strategy, all be it exciting none the less. It seems to everyone that your commentary are actually not totally rationalized and in reality you are generally your self not even entirely certain of your argument. In any case I did enjoy reading it.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here