उत्तर प्रदेश के सरकारी प्राइमरी व जूनियर स्कूलों में जाने वाली 9108 दिव्यांग छात्राओं को स्टाइपेंड दिए जाने के लिए 182 लाख रुपये जारी कर दिए गए हैं। छात्राओं को दो सौ रुपये प्रतिमहीने के हिसाब से दो हजार रुपये वार्षिक दिए जाएंगे। स्टाइपेंड 10 महीने के लिए मान्य होगा। कक्षा एक से आठ तक पढ़ने वाली दिव्यांग छात्राओं को शिक्षा के प्रति प्रेरित करने के लिए ये स्टाइपेंडड दिया जाता है। 

इसके लिए 40 फीसदी तक विकलांग छात्राएं आवेदन कर सकती हैं। इसके लिए मेडिकल बोर्ड या सक्षम अधिकारी से जारी प्रमाणपत्र ही मान्य होगा। समर्थ ऐप पर ऐसी छात्राओं का विवरण भरना अनिवार्य होगा। इसके लिए छात्राओं को आवेदन करना होगा। प्रधानाध्यापक पात्र छात्राओं की सूची विद्यालय प्रबंध समिति के समक्ष रखेंगे। यहां से अनुमोदित छात्राओं की सूची खण्ड शिक्षा अधिकारी बेसिक शिक्षा अधिकारी को उपलब्ध कराएंगा और इसके बाद बीएसए इसे जिला कमेटी के समक्ष रखेंगे। जिला स्तरीय कमेटी के अध्यक्ष जिलाधिकारी द्वारा नामित मजिस्ट्रेट होंगे। इसकी सूची का अनुमोदन 22 फरवरी तक करके समग्र शिक्षा अभियान के कार्यालय भेजा जाना है। 

31 COMMENTS

  1. wonderful post, very informative. I wonder why the other specialists of this sector do not realize this. You should proceed your writing. I’m confident, you’ve a great readers’ base already!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here