तीनों कृषि कानूनों के विरोध में शुरू हुए किसानों आंदोलन को आज छह माह पूरे हो गए हैं। आंदोलन को छह माह पूरे होने पर किसानों संगठनों द्वारा आज ‘ब्लैक डे’ मनाया जा रहा है। इस बीच समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष व यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने किसान आंदोलन के सहारे एक बार फिर भाजपा सरकार पर तीखा हमला बोला है। अखिलेश यादव ने कहा, ‘हमारे हर निवाले पर किसानों का कर्ज है।’

यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने बुधवार को ट्विटर पर लिखा, ‘बहाकर अपना खून-पसीना जो दाने पहुंचाता घर-घर ‘काला दिवस’ मना रहा है, आज वो देश का ‘हलधर’। भाजपा सरकार के अहंकार के कारण आज देश में किसानों के साथ जो अपमानजनक व्यवहार हो रहा है उससे देश का हर नागरिक आक्रोशित है। हमारे हर निवाले पर किसानों का कर्ज है।’

लेकिन ट्विटर के जरिए किसान आंदोलन का समर्थन करना और केंद्र सरकार पर निशाना साधने के चक्कर में अखिलेश खुद सोशल मीडिया पर लोगों के निशाने पर आ गए। इतना ही नहीं लोगों ने ट्विटर पर सपा प्रमुख को जमकर लताड़ भी लगाई।

अखिलेश यादव के ट्वीट पर लोगों ने रिट्वीट करते हुए जमकर निशाना साधा। एक यूजर ने सपा अध्यक्ष पर तंज कसते हुए लिखा, ऐसे बोल रहे हैं जैसे 25 वर्ष – 20 वर्ष शासन करके किसानों का उद्धार कर दिया था, हमारे देश के अन्नदाता हमारे किसानों को सोने की थाली में खाना परोसा था, मोदी जी ने आते ही, लाल टोपी द्वारा दिए गए सोने की थाली को छीन लिया क्या ? इतने दोगले मानसिकता पैदाइशी है या कोई कोर्स किया है ?

गौरतलब है कि, तीनों कृषि कानूनों के विरोध में शुरू हुए किसानों आंदोलन को आज यानी बुधवार 26 मई को छह माह पूरे हो गए हैं। आज प्रदर्शकारियों द्वारा ‘ब्लैक डे’ मनाया जा रहा है। भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत का कहना है कि, सरकार ने मांगें नहीं मानीं। काले कानून नहीं हटाए। हमारे लिए यह ‘काला दिन’ है और ऐसे मौके पर किसान काले झंडे ही लगा रहे हैं। टिकैत ने कहा, ‘हम भी तिरंगा लेकर चल रहे हैं। कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए प्रदर्शन शांतिपूर्ण तरीके से किया जाएगा। यहां (दिल्ली) कोई नहीं आ रहा है। लोग जहां हैं, वहां झंडे लगा रहे हैं।’

किसान संगठनों की ओर से 26 मई को ‘ब्लैक डे’ मनाया जा रहा है। यह वही दिन है, जब नरेंद्र मोदी ने 7 साल पहले प्रधानमंत्री पद की कुर्सी संभाली थी। 2021 में जहां एक ओर प्रधानमंत्री की कुर्सी पर मोदी को 7 साल पूरे हो रहे हैं, वहीं दूसरी ओर किसान संगठनों के आंदोलन को भी 6 महीने पूरे हो रहे हैं। किसान संगठनों के नेताओं ने ऐलान किया कि, लोग अपने गांव-घर, दुकानों और इंडस्ट्री पर काले झंडे लगाकर विरोध दर्ज कराएंगे।

31 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here