मणिकर्णिका सेवा समिति ने मंदिर को सौंपी भिखारी धर्मशाला

वाराणसी। श्री काशी विश्वनाथ धाम के निर्माण की गति अब और तेज हो जाएगी। ऐसे में अब तक जहां धरातल पर कार्य दिखने लगा है वही सावन माह तक काफी कुछ भवन आकार लेने लगेंगे।
कोरोना महामारी के चलते श्री काशी विश्वनाथ धाम का निर्माण भी प्रभावित हो गया था। ऐसे में कार्य को समय पर पूरा करना कंपनी के लिए चुनौती बन गया था। लॉकडाउन खुलते ही कंपनी द्वारा अपने विभिन्न क्षेत्रों से मजदूरों को बुलवाकर काम शुरू करा दिया है। अब मजदूरों की संख्या लगभग 400 से अधिक हो चुकी है ।

वहीं शुक्रवार की शाम को मणिकर्णिका सेवा समिति द्वारा इस धाम के निर्माण के लिए भिखारी धर्मशाला मंदिर प्रशासन को सौप दी गयी। इसके एवज में मंदिर प्रशासन ने समिति के खाते में एक करोड़ 80 लाख की धनराशि भेज दी है। लिखित सहमति मिलते ही शनिवार को मंदिर प्रशासन द्वारा मशीनों को लगाकर उस भवन के ध्वस्तीकरण का कार्य तेज कर दिया गया है। इससे अब घाट किनारे बनने वाली जेटी और अन्य निर्माणों की गति कई गुना बढ़ जाएगी। श्री काशी विश्वनाथ मंदिर के मुख्य कार्यपालक श्री विशाल सिंह ने बताया कि मणिकर्णिका सेवा समिति द्वारा किए गए इस सहयोग से अब निर्माण कार्य को काफी लाभ पहुंचेगा। इस भवन के हटने के बाद वहां होने वाले पक्के घाट के निर्माण से घाट का सौंदर्य काफी बढ़ जाएगा।

श्री काशी विश्वनाथ का दर्शन मंगलवार से, तैयारी पूरी

सीईओ विशाल सिंह ने बताया कि श्री विश्वनाथ मंदिर में दर्शन आज प्रशासनिक निरीक्षण के उपरान्त केन्द्र सरकार की गाइडलाइन्स के अनुसार मंगलवार से प्रारंभ हो जाएगा। सैनेटाइजेशन से लगायत समस्त तैयारी पूरी की जा चुकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here