देवाशीष दत्ता
बहुचर्चित खोजी पत्रकार

कोलकाता। आस्ट्रेलिया मे 2020 में आयोजित t20 विश्व कप में अभी काफी वक्त है। लेकिन टीम इण्डिया इस मुकाबले की अभी से योजना बनाने में जुट गयी है। दो राय नहीँ समुचित तैयारी होनी ही चाहिए। मगर इतनी जल्दी! कहीँ यह मार्केटिंग का फंडा तो नहीं? क्योंकि अन्य टीमों ने अभी इस ओर कतई नहीं सोचा है।

इन दिनो अन्तरराष्ट्रीय क्रिकेट का असमाप्त सत्र है। अति क्रिकेट ने खिलाड़ियों की फिटनेस को काफी प्रभावित किया है। ऐसे में आप नहीं जानते कि आठ महीने बाद कौन खिलाड़ी फिट होंगे और कौन अनफिट।

भारतीय क्रिकेट टीम का आलम यह है कि वो विराट कोहली, रोहित शर्मा, बुमराह और मोहम्मद शमी के वगैर कप नहीं जीत सकता। इस सच्चाई को आपको स्वीकार करना ही होगा। क्या गारंटी है इस बात की कि टूर्नामेंट के समय उक्त चारों फिट रहेंगे।

इस समय मंथन चल रहा है कि कौन चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरेगा ? यह निहायत मूर्खतापूर्ण है और यह भी कि कुल्चा खिलाडियों की जोडी को कैसे दफा बासठ कर दिया गया ? जवाब सीधा साधा मिलेगा कि जोडी के तोर पर ये बढिया गेंदबाजी नहीं कर पा रहे थे। चलिए मान लिया। सर रविन्द्र जडेजा का खेलना यदि तय है तो फिर आप और दो स्पिनर्स कैसे खिला सकेंगे ?

बेहतर होगा कि टीम प्रबंधन खिलाडियों को चेता दे कि एक निश्चित समयावधि मे वे अन्य खिलाडियों को आजमाने जा रहे हैं। कोई पहले से मन बना कर न बैठ जाए। यदि ऐसा नहीं हुआ तो हमें सदमा झेलने के लिए तैयार रहना होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here