राहुल गांधी ने विपक्षी नेताओं को ऐसे समय नाश्ते पर बुलाया है जब पेगासस और कुछ अन्य मुद्दों को लेकर पिछले कई दिनों से संसद के दोनों सदनों में गतिरोध बना हुआ है. हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने राहुल गांधी की ब्रेकफास्ट पॉलिटिक्स पर तंज कसा है. उन्होंने कहा कि कहीं की ईंट कहीं का रोड़ा राहुल गांधी ने चाय पार्टी पर कुनबा जोड़ा. बता दें कि उन्नीस जुलाई से मॉनसून सत्र आरंभ हुआ था, लेकिन अब तक दोनों सदनों की कार्यवाही बाधित रही है. विपक्षी दलों का कहना है कि पेगासस जासूसी मुद्दे पर पहले चर्चा कराने के लिए सरकार के तैयार होने के बाद ही संसद में गतिरोध खत्म होगा. संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने विपक्ष की मांग को खारिज करते हुए शुक्रवार को लोकसभा में कहा कि यह कोई मुद्दा ही नहीं है.

बता दें कि पेगासस जासूसी मामले पर चर्चा की मांग कर रहे विपक्षी दलों के हंगामे के कारण संसद में बने गतिरोध के बीच कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने विपक्ष के नेताओं के साथ मिलकर सरकार को घेरने और दबाव बनाने की रणनीति पर चर्चा के लिए मंगलवार सुबह बैठक बुलाई. राहुल गांधी ने कांस्टीट्यूशन क्लब में मंगलवार सुबह विपक्षी नेताओं को नाश्ते पर आमंत्रित किया था.

इसमें द्रमुक, शिवसेना, राजद, वाम दलों, तृणमूल कांग्रेस और कई अन्य विपक्षी दलों के नेताओं को आमंत्रित किया गया और 14 दलों के नेता पहुंचे भी लेकिन आम आदमी पार्टी और बसपा इस बैठक में नहीं आई. बैठक में दोनों सदनों के विपक्षी दलों के नेता और सांसद शामिल हुए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here