सी के मिश्रा
वित्त विश्लेषक

दिल्ली के प्रगति मैदान में 28 वाँ पुस्तक मेला शनिवार से आरंभ हो गया। यह मेला 12 जनवरी तक चलेगा। महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती के उपलक्ष्य मे इस बार मेले की थीम ” गांधी” रखी गई है। एक रिपोर्ट के मुताबिक इसमें 800 से ज्यादा प्रकाशकों ने लगभग 1300 स्टाल के जरिए अपनी पुस्तकें प्रदर्शित की है। इस नौ दिवसीय मेले मे कई जाने माने लेखकों की किताबों का विमोचन भी किया जाएगा जैसा कि आज एक लेखक श्री श्याम सुंदर पाठक जी की तीन किताबों का विमोचन हुआ। साथ में उन्होंने बच्चों के लिए लूडो की तरह बनाए श्याम पथ, श्याम सीढ़ी नाम से खेल की किताब का भी विवेचन किया। सबसे अच्छी किताब उनकी “जीवन की वर्णमाला” उन्होंने लिखी है काव्य संग्रह है जीवन की शैली को उसमें उन्होंने कविताओं को पिरोया है। पाठक जी ने 2 और किताबों का विमोचन किया जो “शाम की पाती” और ” खिलखिलाते अक्षर ” ।बच्चों के लिए खास करके किताबें उन्होंने लिखी हैं जिसमें छोटे अक्षरों से लेकर बड़े अक्षरों तक के शब्द हैं ।

इस मेले में सबसे ज्यादा बच्चों को भी तब्बजो दी गयी है बच्चों की किताबें भर पूर् है ।हर स्टॉल पर बच्चे और युवा किताब खरीद रहे हैं और लगा कि दिल्ली में अभी साहित्य पढ़ने वालों की जनसंख्या है । लोग साहित्य को पसंद करते हैं।
युवा वर्ग ने इसमें आज बढ़-चढ़कर भाग लिया है। यहां पर प्रकाशक और लेखक अपनी किताबों को प्रदर्शन करने के लिए नए-नए तरीके अपना रहे हैं।

20 से ज्यादा देशों के लेखकों की पुस्तकोंको प्रदर्शित किया गया है । मेले का समय सुबह 11:00 बजे से रात 8:00 बजे तक होगा टिकट की व्यवस्था है स्कूल के बच्चों का प्रवेश नि:शुल्क है। रविवार होने की वजह से बच्चों और युवाओं की काफी भीड़ थी ।इसमें अलग-अलग मंड़प का निर्माण किया गया है ।कुछ बाल मंडप है कहीं चित्र प्रदर्शनी है,तो कहीं सास्कृतिक कार्यक्रम आयोजि त थे तो कहीं किताबों का विमोचन हो रहा था। इस बार गांधी जी की थीम को विशेष दर्जा दिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here