sportsjharkhand.com

सर्वोच्च न्यायालय द्वारा नियुक्त COA की देखरेख में हो रहे JSCA के चुनाव में इस बार मतदान प्रक्रिया के दौरान पारदर्शिता बरती जा रही है। मतदान पत्र का प्रारूप पहले ही जारी कर दिया गया है। मतदाताओं को मिलनेवाले मतदान पत्र में किसी भी तरह का सीरियल नंबर, रंग आदि नहीं रहेगा। जिससे कि बाद में पहचाना जा सके कि किस मतदाता ने किसे वोट किया है। इसके अलावा वोट के साथ सेल्फी लेने से मनाही के लिए मतदान केंद्र में मोबाइल व अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरण ले जाने पर पाबंदी लगा दी गई है। ऐसी व्यवस्था के पीछे का तर्क ये है कि गुप्त मतदान का सार्वजनीकरण न हो। यानि किस मतदाता ने किस मतदान पत्र का उपयोग किया ये बैलट बॉक्स में जाने के बाद किसी को भी पता नहीं चले। इस पारदर्शिता के लिए इलेक्टोरल अफसर बधाई के पात्र हैं। पूर्व के चुनावों में इस तरह के आरोप लगते रहे हैं।

पत्रकारों से दूरी, समझ से परे: मतदान की तैयारियों में जो पारदर्शिता बरती जा रही है उससे मीडिया को दूर रखने की रणनीति समझ से परे है। इस विषय पर इलेक्टोरल अफसर ने एक पत्रकार से कहा है कि COA का निर्देश/गाईडलाईन्स नहीं मिला है की मीडिया को जानकारी दी जाए। शनिवार को एक अन्य मीडियाकर्मी को कहा कि अगर मीडिया का अनुरोध होगा तो मैं रविवार को शाम 5.30 बजे मीडिया के मित्रों से मिलूंगा। COA का निर्देश आ गया है क्या शिव बसंत जी ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here