कोर्ट ने साफ किया कि वो मामला 26 जुलाई से अंतिम सुनवाई के लिए लगाएंगे। पहले मुख्य मामले को सुना जाएगा, बाद में अवमानना मामले को।
जस्टिस एम आर शाह की बेंच ने कहा कि दिवाली आती है, चली जाती है, लेकिन मुख्य मसला ज्यों का त्यों रह जाता है।हम ऐसा नहीं चाहते
सुनवाई के दौरान पटाखा निर्माताओं की ओर से पेश वकील दुष्यन्त दवे ने कहा कि अकेले SC में 70 हज़ार से ज़्यादा केस पेंडिंग है।
जस्टिस शाह ने कहा- इतने केस पेंडिंग रहने की वजह वकीलों की ओर से सुनवाई टालने के लिए किए जाने वालाआग्रह है। हर दिन 4-5 केस ऐसे आते है। अगर हम सुनवाई नहीं टालते तो शायद लोगों को ये पसंद नहीं आएगा। पर हमें इसकी चिंता नहीं करनी चाहिए कि दूसरे पंसद कर रहे है या नहीं। हमे दूसरों को सर्टिफिकेट नहीं चाहिए। अपनी अंतरात्मा की आवाज पर हमें काम करना चाहिए।
बहरहाल कोर्ट ने सुनवाई 26 जुलाई के लिए टाल दी ।