कोरोना की विकरालता को देखते हुए सरकार ने चंदा देने की अपील की थी। चंदे आ भी रहें हैं।लेकिन अब सरकार ने विदेशी चंदा स्वीकार करने का फैसला किया है । क्योंकि बाहर से इसका अनुरोध आ रहा है और आपातकाल में ऐसा करना अपरिहार्य हो गया है।

सूत्रों के मुताबिक, हाल ही में पीएम मोदी ने देश के राजदूतों और उच्चायुक्तों से कोरोना वायरस को लेकर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चर्चा की थी इस दौरान पीएम मोदी ने इस दिशा में मदद करने के लिए आगे आने को कहा था।

राजदूतों और उच्चायुक्तों से अपनी बातचीत के दौरान पीएम मोदी ने उन्हें कोरोना वायरस को लेकर किए गए लॉकडाउन के फैसले और दूसरी जानकारियों से अवगत कराया था। सरकार की तरफ से राहत पैकेज के एलान का भी उन्होंने जिक्र किया था। इसके साथ ही पीएम मोदी ने राजदूतों और उच्चायुक्तों से कहा था कि वे जिस देश में हैं, वहां कोरोना वायरस से लड़ने के लिए किस तरह के कदम उठाए जा रहे हैं, इसकी भी जानकारी मुहैया कराएं।

पीएम केयर्स फंड में अब तक कई लोगों ने अपना योगदान दिया है। देश के उद्योगपति, खिलाड़ी, राजनेता, अभिनेता, सरकारी और प्राइवेट संस्थानों के अलावा आम लोगों ने भी इसमें अंशदान दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here