*उपनिवेशवाद के दो ढाई सौ वर्षों का संक्षिप्त विवरण : भाग3

के.एन. गोविन्दाचार्य
चितक-विचारक

अंग्रेजों ने 1750 से 1945 तक भारत की समाजव्यवस्था, अर्थव्यवस्था, राज्यव्यवस्था और सांस्कृतिक, धार्मिक व्यवस्था पर सांघातिक प्रहार किया ।

1780-1802 के बीच जमीन की मिल्कियत, जंगलात, खदान, पहाड़, सुदूर क्षेत्र आदि कब्जा करने की नीयत से Land Resettlement Act लाया गया | उसके पूर्व सबै भूमि गोपाल की थी | ग्राम की जमीन थी | जो खेती न करे वह जमीन भी गाँव की हो जाती थी | इस Act ने किसानों को, आदिवासियों को खेतीहीन, साधनहीन बना दिया | विरोध करने पर जरायमपेशा यानी अपराधी घोषित कर दिये गये । फलतः परिवार, कुटुंब, गाँव और उनकी इकाई की भूमिका खतरे मे पड़ गई ।| परिवार, गाँव टूट गये | प्राकृतिक एवं प्राथमिक खनिज संसाधनों को लूटकर ले जाने के लिये बंदरगाह, रेल लाइन आदि का उपयोग हुआ।

चूँकि अंग्रेज गोमांस भक्षक थे इसलिये छल-छद्म का सहारा लेकर गोभक्षण करते रहे | भारत में अपप्रचार, गोवंश के बारे मे असत्य प्रचार किया गया| फलतः एक आदमी पर 10 गोवंश की बजाय 1 आदमी पर 1 गोवंश बच सका | स्थानिक कारीगरी, व्यापार व्यवस्था, आयात-निर्यात आदि को तो क्रूरतापूर्वक नष्ट किया गया |

ईसाईकरण और भारतीय पूजापद्धति, अध्यात्म-साधना, अपप्रचार की परंपरा को रूढी करार दिया गया | धर्म सत्ता, मंदिरों, मठों को हर तरह से अपमानित और विपन्न बताया गया | चर्चो को बेतहाशा जमीनें खैरात में मिल गई |

भारत मे ब्रिटिश राज के अनुकूल नौकरशाही की व्यवस्था लागू की गई। न्यायालय की ब्रिटिश व्यवस्था लाई गई | पश्चिमी शिक्षा व्यवस्था तो पारंपरिक शिक्षा व्यवस्था के ग्रामीण आर्थिक साधन स्त्रोतों को सुखाकर निचोड़कर ही आगे बढ़ी| काले अंग्रेजों की पीढ़ी बनने लगी |
दोनो विश्वयुद्धों मे भारतीय सैनिकों ने शौर्य के उच्चतम कीर्तिमान फिर भी स्थापित किये ।
1750-1900 के कालखंड में भारतीय समाज के अंदर न्यूनगंड की ग्रंथि, आत्मविस्मृति, उत्पन्न करने मे विशेष सफल रहे| यूरोपीय परिप्रेक्ष्य मे सोचने, समझने की आदत काले अंग्रेजों में पैदा करने मे बहुतांश वे सफल रहे ।

भारत के अपने राष्ट्रभाव के स्थान पर यूरोपीय बचकाने राष्ट्रराज्य को आरोपित करने में वे सफल रहे | 1930 होते-होते भारत के एक राष्ट्र के नाते अस्तित्व की भावना में ही उन्होंने संदेह, शंका, जहर घोल दिया |

अंग्रेजों की इस चाल को आर्यसमाज के स्वामी दयानंद, स्वामी रामकृष्ण परमहंस और उनकी शिष्य मंडली जिसमे बंकिम चन्द्र चट्टोपाध्याय भी थे, ने इस संभ्रमकारी वृत्तियों को अपने-अपने ढंग से प्रभावी और सफल योगदान किया | राष्ट्रीय, सांस्कृतिक, सामाजिक स्तर पर उनका योगदान मूलग्राही सिद्ध हुआ |

अंगेजों को भगाने मे राजनैतिक, आर्थिक क्षेत्र में बहुत से श्रेष्ठ व्यक्तियों ने योगदान किया | लाल, बाल, पाल की त्रिमूर्ति का योगदान था ही | समाज सुधार के एक वार्ड ने भी भारत के सामान्य जन को जगाया, जोड़ा |

उसी कालखंड में महात्मा गाँधी ने किसानों, मजदूरों, उद्योगपतियों, व्यापारियों, पुरुषों, महिलाओं आदि सभी को आजादी की मुहिम मे सफलतापूर्वक जोड़ा | साथ ही भारत की तासीर को वे भी समझते थे । देश में प्रभावी सभ्यतामूलक भारत की आत्मछवि और विश्व मे स्थान बताने वाला दस्तावेज 1909 से चर्चा मे आ गया | लेकिन तब तक साम्यवादी, समाजवादी आंदोलन, राष्ट्र राज्य की संकल्पना, यूरोप का अंधानुकरण, आदि का ग्रहण तो लगा ही चुका था|*
*गांधी, विनोबा, कुमारप्पा आदि “हिन्द स्वराज” की भावना को पकड़कर समाज मे कार्यरत थे । राजनीति में “राष्ट्र” के संदर्भ में तीन धाराएँ बन गई|
एक हिस्सा जो यह मानता था कि भारत एक राष्ट्र सदा से है| राष्ट्र राज्य की सिमित अवधारणा से परे है भारतीय सनातन राष्ट्र की अवधारणा|”

दुसरा हिस्सा जो समझता था कि राष्ट्र बनाना है, तो उसके दिमाग में स्वाभिमान और आत्मविश्वास के स्थान पर आत्मनिंदा ही प्रखर होती है| इस दूसरी धारा को ही एक और आयाम मिला, ऐसे वार्ड के रूप मे जो सन् 47 से मानने लगा था कि भारत का 1947 मे जन्मा नया राष्ट्र है| हमे अनुकरण कर काफी कुछ वृद्धि करना है|
-सन् 1945 तक तीनों धाराएँ स्वातंत्र्य आंदोलन मे अपने-अपने ढंग से योगदान कर रही थी| पहली श्रेणी के पुरस्कर्ता सावरकर, अनेक संत, गाँधीजी, विनोबाजी, रा. स्व. संघ आदि कहे जा सकते हैं| उसी मे कुमारप्पा की आर्थिक सोच और बुनियादी तालीम को जोड़ा जा सकता है|
इन तीनों धाराओं के बीच खींचतान चलती रही| इसी संदर्भ में गाँधी-नेहरु विवाद को देखने की जरुरत है| ग्राम और ग्राम-स्वराज के प्रति नेहरूजी को अरुचि और गांधी के निष्ठापूर्ण आग्रह को देखना होगा| गोरक्षा के बारे में तो हिन्द स्वराज की विश्वदृष्टि ही गाँधीजी के लिये मार्गदर्शक थी|
स्वातंत्र्य प्राप्ति के संघर्ष मे गाँधीजी के योगदान के बारे मे तर्क-वितर्क चला करते हैं, उससे इतर अंग्रेजों के जाने के बाद भारतीय संरचना का अधिष्ठान क्या हो, पीठिकाएँ क्या-क्या हों? इन सब पहलुओं पर वे पहली धारा के पुरस्कर्ता नजर आते हैं|

भारत विभाजन, गाँधीजी की ह्त्या के बाद संविधान निर्मात्री सभा की बहस मे तीनों धाराओं के प्रतिपादक बहस में उलझते हैं| गाँधीजी सीन से बाहर थे| तीनों धाराओं का मिश्रण बना, संविधान।

देश की चिंतनधारा में मार्क्सवादी भारत मे 17 राष्ट्रीयताओं की वकालत करते थे| साम्यवादी, समाजवादी एवं कांग्रेस के भी कई महत्वपूर्ण नेता अतीत से कटकर नव-निर्माण की बात करने लगे थे|
पहली धारा के लोग पुनर्निर्माण के आग्रही थे | वे मानते थे कि अतीत गौरवशाली है, वर्तमान चिंतनीय है| भविष्य को अतीत के अनुभवों से सीखकर गढ़ना है| पुरानी नींव नया निर्माण ही आग्रह रहना चाहिये|

इस बीच द्वितीय विश्व-युद्ध के बाद यूरोप, अमेरिका के सत्ताधिशों ने उपनिवेशों पर पकड़ ढीली की| नीयत मे बदल नही था| तरीके मे बदल था| संयुक्त राष्ट्र संघ का गठन हुआ| अमेरिका तो यूरोप का ही विस्तार है| स्थानिक लोगों का नरसंहार कर उप महाद्वीप पर कब्जा किये लोगों की बसाहट Settlement है अमेरिका| अमेरिका की भूमिका पचास के दशक से प्रभावी होती गई| साथ के दशक से विश्व युद्ध के बहुत से देश शीतयुद्ध की चपेट मे आ गये| चीन अपने को शान्त रीति से अलग-थलग करके शक्ति संचय कर रहा था| भारत ने अपनी राह न पकड़ते हुए रूस, अमेरिका के अनुकरण की राह पकड़ ली|

राजनैतिक क्षेत्र मे कांग्रेस के अंदर का प्रगतिशील घड़ा, साम्यवादी और समाजवादी सामान्यतः साथ हो लिये| आर्थिक नीति और व्यवस्था निर्धारण मे गाँधीजी को पूरी तौर पर तिलांजलि दे दी गई| वैचारिक सांस्कृतिक, धार्मिक क्षेत्रों का हनन किया गया| प्रगतिशीलता के नाम पर भारतीयपन का तिरस्कार किया गया| देश को अपनी तासीर के अनुसार चलने से वंचित किया गया, देश की अभीप्सा यात्रा को कमजोर किया गया| देश की पहचान को विकृत किया गया| देश के इतिहास को भीषण रूप से विकृत किया गया| दकियानूसी, अवैज्ञानिक आदि खिताब से देशज ज्ञान-परंपरा को नवाजा गया| देश की तासीर के अनुकूल चलने वाली इच्छाशक्ति स्वाभिमान और आत्मविश्वास को कुंठित किया गया| देश की SWOT Analysis बिलकुल पलट दी गई| ताकत को कमजोरी और कमजोरी को ताकत चित्रित किया गया| चीनी आक्रमण ने देश की चेतना को झकझोरा| राष्ट्रवाद को सांप्रदायिकता करार दिया गया| वही अल्पसंख्यक तुष्टीकरण को सेकुलरवाद बताया गया|
राजनैतिक व्यवस्था समाजोन्मुखी से हटकर सत्ताकेन्द्रित होती गई|

3 COMMENTS

  1. Today, I went to the beachfront with my kids. I found a sea shell and gave it to my 4 year old daughter and said “You can hear the ocean if you put this to your ear.” She placed the shell to her ear and screamed. There was a hermit crab inside and it pinched her ear. She never wants to go back! LoL I know this is completely off topic but I had to tell someone!

  2. My brother recommended I might like this web site. He was entirely right. This post actually made my day. You cann’t imagine simply how much time I had spent for this info! Thanks!

  3. Very interesting points you have noted, thankyou for posting. “In a great romance, each person plays a part the other really likes.” by Elizabeth Ashley.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here