मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि कोविड-19 के सम्बन्ध में प्रदेश में अपनाई गई रणनीति का ही यह परिणाम है कि हमारे राज्य में कोरोना की स्थिति नियंत्रण में है। इसके बावजूद हर स्तर पर सतर्कता बरतना आवश्यक है। इस सम्बन्ध में थोड़ी लापरवाही भी भारी पड़ सकती है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 टीकाकरण अभियान के द्वितीय चरण की सभी तैयारियां समय से कर ली जाएं। 

मुख्यमंत्री मंगलवार को यहां लोक भवन में उच्चस्तरीय बैठक में अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि वर्तमान में कोरोना टीकाकरण अभियान का प्रथम चरण प्रगति पर है। इसके अन्तर्गत हेल्थ वर्कर्स को वैक्सीन की प्रथम डोज दी जा रही है। उन्होंने कोरोना टीकाकरण कार्य को केंद्र सरकार की गाइडलाइन्स तथा क्रम के अनुरूप संचालित करने के निर्देश दिए हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आगामी तीन सप्ताह में समस्त हेल्थ वर्कर्स का वैक्सीनेशन कार्य पूरा किया जाए। पहले चरण में वैक्सीनेट किए गए लोगों को कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज 15 फरवरी, 2021 से दिया जाना शुरू किया जाए। बैठक में बताया गया कि कोरोना वैक्सीनेशन कार्य के मद्देनजर प्रदेश के पुलिस आदि विभिन्न सुरक्षा बलों का डाटा बेस तेजी से तैयार किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रतिदिन कोविड-19 के कम से कम 1.50 लाख टेस्ट किए जाएं। मुख्यमंत्री ने निर्देशित किया कि सर्विलांस सिस्टम तथा कान्टैक्ट ट्रेसिंग को पूरी सक्रियता से जारी रखा जाए। जिलों में स्थापित इन्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कन्ट्रोल सेन्टर को प्रभावी बनाए रखा जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री आरोग्य मेलों को पोषण सम्बन्धी गतिविधियों से भी जोड़ा जाए। इस आयोजन में आयुष्मान भारत योजना तथा मुख्यमंत्री जन आरोग्य अभियान के सम्बन्ध में जानकारी दी जाए। पात्र लाभार्थियों को इन योजनाओं के गोल्डन कार्ड प्रदान किए जाने की व्यवस्था भी की जाए। 

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here