नई दिल्ली। निर्भया के दोषियों की फांसी का दिन जैसे-जैसे निकट आ रहा है, वे नए पैंतरे इजाद करने लगे हैं। ताजा मामला अक्षय का है जिसकी एक दया याचिका खारिज की जा चुकी है, पर उसने दूसरी दया याचिका दाखिल की है।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद निर्भया के दोषी अक्षय की दया याचिका पहले खारिज कर चुके हैं। नई याचिका में उसने दावा किया कि पहले दायर की गई दया याचिका में सभी तथ्य नहीं थे। निर्भया के दोषी अक्षय का फांसी से बचने का यह नया पैंतरा है। दरअसल, निर्भया के दोषियों को तीन मार्च सुबह 6 बजे फांसी देने का डेथ वारंट जारी किया जा चुका है। पटियाला हाउस कोर्ट के अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश धर्मेंद्र राणा ने नया डेथ वारंट जारी किए जाने की मांग वाली याचिका पर यह आदेश दिया था। इसके अलावा शुक्रवार को निर्भया के दोषी पवन कुमार ने फांसी से बचने के लिए सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटीशन दायर की। उसने अपनी क्यूरेटिव पिटीशन में मौत की सजा को आजीवन कारावास में बदलने की मांग की। दोषी पवन कुमार के वकील एपी सिंह ने दलील दी कि अपराध के समय पवन कुमार नाबालिग था और मौत की सजा उसे नहीं दी जानी चाहिए।

2 COMMENTS

  1. I must show my thanks to this writer for rescuing me from such a setting. Because of checking throughout the world wide web and obtaining solutions which are not pleasant, I figured my life was gone. Living without the approaches to the difficulties you have sorted out by way of the short post is a crucial case, as well as ones which may have badly damaged my entire career if I had not discovered the website. Your main natural talent and kindness in maneuvering all areas was valuable. I am not sure what I would’ve done if I hadn’t discovered such a solution like this. I am able to now look ahead to my future. Thanks for your time very much for the skilled and result oriented help. I will not think twice to suggest your site to any individual who ought to have tips about this area.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here