पंजाब के अपने यहां कर्फ्यू लगाने के बाद महाराष्ट्र ने भी कर्फ्यू लगाने का एलान किया है। राज्य में कोरोना के बढ़ते मामले और लोगों की लाकडाउन के प्रति लापरवाही को देखकर ये फैसला लिया गया।

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इसकी घोषणा करते हुए कहा कि राज्य की सीमाएं सील कर दी गई है। इसके अलावा जिले की सीमा पर चौकसी बरती जा रही है और समूह में लोगों की आवाजाही पर रोक लगा दी गयी है।

सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा कि राज्य के अंदर आने वाले सभी धार्मिक स्थल बंद कर दिए गए हैं। इन उपासना स्थानों पर सिर्फ धर्मगुरु पूजा करेंगे। ऐसे धार्मिक स्थानों को पब्लिक के लिए पूरी तरह से बंद कर दिया गया है।

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने लोगों के रवैये से नाराजगी जताते हुए कहा कि वे मजबूरीवश ऐलान कर रहे हैं कि पूरे राज्य में कर्फ्यू लागू कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि लोग लॉकडाउन का पालन नहीं कर रहे थे और वे कर्फ्यू की घोषणा करने पर मजबूर हुए हैं।
इसी के साथ एक जिले से दूसरे जिले में ट्रांसपोर्ट भी बंद हो गया है। हालांकि जरूरी चीजें ले जाई जा सकेंगी।

उद्धव ठाकरे ने कहा कि कोरोना को लेकर हम उस बिंदु पर खड़े है कि अगर हम एहतियात का पालन नहीं करेंगे तो हम भी वैसा ही झेलने को मजबूर हो जाएंगे जैसा दुनिया के कई दूसरे देश झेल रहे हैं। उद्धव ने कहा कि हमने राज्य की सीमाएं सील कर दी हैं। अब हम जिले की सीमाएं भी सील कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि कर्फ्यू का आवश्यक सेवाओं पर कोई असर नहीं पड़ेगा। राज्य में दवा की दुकानें, दवाओं की सप्लाई, बेकरी, पालतू जानवरों की क्लिनिक, फूड स्टोर, कृषि कार्य, खाद और बीज की दुकाने खुली रहेंगी।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here