वाराणसी। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने नोएडा और लखनऊ के बाद अब वाराणसी और कानपुर में भी पुलिस कमिश्नर प्रणाली लागू कर दी है। ए सतीश गणेश को वाराणसी का पहला पुलिस कमिश्नर बनाए जाने की तैयारी है। बता दें पुलिस कमिश्नर प्रणाली लागू होते ही वाराणसी में पुलिस व्यवस्था में कई बड़े बदलाव होने जा रहे हैं।

वाराणसी को दो भागों में बांटा गया है

जानकारी के अनुसार वाराणसी को दो भागों में बांटा गया है। वाराणसी नगर में 18 पुलिस थाने होंगे जबकि वाराणसी ग्रामीण में 10 थाने होंगे। इसके अलावा वाराणसी नगर को दो जोन में बांटा गया है। हर जोन में डीसीपी की तैनाती की जाएगी।

पुलिस कमिश्नर के पास होगी मजिस्ट्रेट की कई पावर

पुलिस कमिश्नर प्रणाली लागू होने पर कानून-व्यवस्था से जुड़े मामलों में प्रशासनिक अधिकारियों का दखल खत्म हो जाएगा। पुलिस को ही मजिस्ट्रेट के अधिकार मिल जाएंगे। इस सिस्टम के लागू होते ही पुलिस कमिश्नर को मजिस्ट्रेट की तरह कई पावर मिलती हैं। इसमें दंगे-फसाद के दौरान लाठीचार्ज, फायरिंग, गिरफ्तारी आदेश देना, धारा-144 लागू करने की शक्तियां शामिल हैं। यही नहीं स्थानीय धरना-प्रदर्शन, जुलूस आदि की अनुमति भी कमिश्नर दे सकता है। अभी तक ये सभी अधिकार जिला मजिस्ट्रेट के पास होते हैं।

ये होगा पुलिस प्रशासनिक ढांचा

सबसे ऊपर पुलिस कमिश्नर (CP) होगा। उसके बाद संयुक्त पुलिस आयुक्त (JCP) या अपर पुलिस आयुक्त का पद होगा। इसमें संयुक्त पुलिस आयुक्त पद आईजी रैंक के समतुल्य होगा। कमिश्नरेट में अपराध और कानून व्यवस्था के लिए अलग से संयुक्त पुलिस आयुक्त या अपर पुलिस आयुक्त की तैनाती होगी। ये अपर पुलिस आयुक्त का पद डीआईजी रैंक का होगा। वहीं एक कमिश्नरेट में संयुक्त पुलिस आयुक्त या अपर पुलिस आयुक्त ही तैनात किए जाएंगे। कमिश्नरेट को अलग जोनों में बांटा जाएगा। हर जोन में एक पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) एसपी रैंक का और एक अपर पुलिस उपायुक्त (एडीसीपी) एडीशनल एसपी रैंक का पद होगा। इसके अलावा सर्किल और थाने की व्यवस्था पूर्व की तरह रहेगी। बस सर्किल की जिम्मेदारी संभालने वाले पद का नाम अब सीओ की जगह सहायक पुलिस आयुक्त (ACP) होगा।

वाराणसी (नगर ) के थाने

कोतवाली, दशाश्वमेध, चौक, लक्सा, आदमपुर, रामनगर, भेलूपुर, लंका, मड़ुवाडीह, चेतगंज, जैतपुरा, सिगरा, छावनी, शिवपुर, सारनाथ, लालपुर-पांडेयपुर, पर्यटक और महिला थाना

वाराणसी (ग्रामीण) के थाने

रोहनियां, मिर्जामुराद, कपसेठी, चौबेपुर, चोलापुर, जंसा, लोहता, बड़ागांव, फूलपुर और सिंधौरा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here