पूर्व केंद्रीय मंत्री, छह बार के सांसद और जाने माने रिफार्मर सीए सुरेश प्रभु ने सारगर्भित उद्बोधन में कहा कि नये आत्मनिर्भर भारत निर्माण के लिए हर व्यक्ति को स्व हित से ऊपर उठकर देश की राष्ट्रीय प्राथमिकता से खुद को जोड़ने की जरूरत है। मत भूलिए कि एक व्यक्ति पूरे विश्व को बदल सकता है। देशवासी इस तथ्य को ध्यान में रख कर देश हित में कार्य करें। यह ब्रेन ड्रेन नही वरन ब्रेन गेन भी है। प्रतिभाओं के विदेश मे पलायन से देश को लाभ भी कम नहीं है। हमे आउट आफ बाक्स सोचने की है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here