बाराबंकी। बाराबंकी के जहांगीराबाद क्षेत्र में दुष्कर्म पीड़ित एलएलबी की एक छात्रा महीनों तक पुलिस की चौखट पर न्याय के लिए भटकती रही लेकिन आरोपियों को पकड़ने के बजाय पुलिस जांच की बात कहकर टरकाती रही।जिससे परेशान होकर उसने फांसी लगाकर जान दे दी। परिजनों का आरोप है कि दुष्कर्म के आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई न होने से छात्रा परेशान थी। छात्रा ने दो सितंबर को एक लेखपाल समेत दो लोगों पर शहर कोतवाली में दुष्कर्म का केस दर्ज कराया था। एसपी ने पूरे मामले की जांच एएसपी उत्तरी आरएस गौतम को सौंपी है।टिकैतनगर क्षेत्र की रहने वाली 22 वर्षीय युवती जहांगीराबाद के एक गांव में अपनी मौसी के घर रहकर एलएलबी की पढ़ाई कर रही थी।

परिजनों की तहरीर पर आगे की कार्रवाई होगी

मंगलवार सुबह छात्रा को उसकी मौसी उठाने पहुंची तो कमरे का दरवाजा नहीं खुला। कई बार दस्तक देने के बाद भी अंदर कोई आवाज नहीं आई तो परिजनों को संदेह हुआ। किसी तरह दरवाजा खोला तो युवती का शव फंदे से लटका था।
उसके गले में दुपट्टा कसा था। पास में एक स्टूल रखा था। सूचना पर पहुंची पुलिस ने कमरे से मिले मोबाइल फोन को कब्जे में लिया है। प्रभारी निरीक्षक मनोज कुमार का कहना है कि परिजनों की तहरीर व जांच के बाद आगे की कार्रवाई होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here