लोलार्क षष्ठी (ललई छठ) के पावन अवसर पर पुत्र प्राप्ति की कामना लिए लाखों निसंतान दंपतियों ने बुधवार को काशी के अस्सी के भदैनी स्थित लोलार्क कुंड में डुबकी लगाई। इस कुंड का बेहद खास महत्व है और माना जाता है कि जो भी दंपत्ति इस कुंड में स्नान करता है उसे संतान का सुख प्राप्त होता है। हजारों दंपत्ति यहाँ पुत्र प्राप्ति की कामना का भाव लेकर इस कुंड में स्नान करते हैं और स्नान करने के पश्चात जो वस्त्र धारण किये होते हैं, उसे वहीँ छोड़ देते हैं, साथ ही किसी एक सब्जी का त्याग हमेशा के लिए कर देते हैं। मान्यता है कि बच्चे प्राप्ति की कामना से स्नान करने वाले दंपत्ति को भगवान सूर्य के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने के लिए किसी एक सब्जी का त्याग कर देना चाहिए। उसी मान्यता का पालन करते हुए बहुत से श्रद्धालू दंपत्ति स्नान के उपरांत लौकी या कुम्ह्डों जैसी सब्जियां कुंड में प्रवाहित करते हैं।

पुत्र कामना व पुत्र की सलामती की मुराद लिए लोलार्क कुंड पर श्रद्धालुओं की भीड़ देर रात से ही लगने लगी थी। लोलार्क षष्ठी स्नान के लिए रात तक स्नानार्थियों की लंबी कतार लग गयी। पुत्र कामना के लिए श्रद्धालुओं का स्नान बुधवार को पूरे दिन चलता रहा। कोई पुत्र प्राप्ति के लिए तो कोई उसके सलामती के लिए तो कोई मुराद पूरी होने के बाद लोलार्क कुंड में डुबकी लगा रहा था। लोलार्क कुंड में डुबकी लगाने के लिए पूर्वांचल सहित देश के कई हिस्सों से श्रद्धालु आये थे।

कुंड में स्नान करने से मिलती है सन्तानोत्पती का लाभ

ऐसी मान्यता है जिसको संतान की उत्पत्ति न हो वह सपत्नी लोलार्क कुंड में स्नान कर लेता है तो उसको संतानोत्पती का लाभ मिलता है। यही कारण है कि प्रतिवर्ष भाद्रपद शुक्ल पक्ष के षष्ठी को देश के विभिन्न हिस्सों से आने वाले लाखो श्रद्धालु यहां आस्था की डुबकी लगाकर पूण्य कमाकर अपने गंतव्य को रवाना होते हैं।

पूरी तरह मुस्तैद रहा प्रशासन

श्रद्धालुओं के साथ कोई हादसा से अनहोनी न हो जाये इसके लिए एनडीआरएफ की टीम लगाई गयी थी। भीड़ को काबू करने और व्यवस्था बनाने के लिए कुंड में स्नान करने के लिए दो तरफ से लाइन लगी थी। एक लाइन मुमुक्ष भवन से लगी थी तो वहीं दूसरी लाइन भदैनी, सोनापुरा की ओर से लगी थी। प्रशासन ने स्नान स्थल से लेकर बाहर सड़क तक और एक तरफ सोनारपुरा और दूसरी ओर मुमुक्षु भवन तक बैरिकेडिंग करके भीड़ नियंत्रित करने का काम किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here