बॉलीवुड अभिनेत्रियों के बीच सूर्य नमस्कार काफी लोकप्रिय है, शिल्पा शेट्टी कुंद्रा और करीना कपूर जैसी बड़ी बॉलीवुड अभिनेत्रियां भी फिट रहने के लिए सूर्य नमस्कार को फॉलो करती हैं। लेकिन क्या यह वास्तव में वजन घटाने की गारंटी देता है।

हम एक नए साल में हैं और हमारे पास संकल्पों का एक नया सेट है। अगर कुछ ऐसा जो बदल नहीं सकता है, वह है हमारी फिटनेस। साल 2020 ने हमें स्वास्थ्य और कल्याण का महत्व सिखाया है और हम इस वर्ष अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए सर्वोत्तम प्रयास कर सकते हैं। इसमें वजन घटाना भी शामिल है, हमारे शरीर में संग्रहीत अनावश्यक फैट से छुटकारा पाना महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह कई तरीकों से हमारे स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकता है।

पर जब हमारा पास अपनी फि‍टनेस के लिए बहुत कम समय है, तब हम क्‍या कर सकते हैं? यह बड़ा सवाल है। घबराएं नहीं, इसका जवाब है सूर्य नमस्कार। यह एक योगासन है जो आपके पूरे शरीर को लक्षित करता है और फिट रहने में आपकी मदद करता है। इसमें 12 आसन होते हैं, जो दिनचर्या का एक हिस्सा हैं। इसके साथ ही सबसे जरूरी सवाल यह है कि क्या वाकई सिर्फ सूर्य नमस्कार करने से वजन घटाया जा सकता है?

सूर्य नमस्कार में विभिन्न योगासन शामिल हैं, जो सकारात्मक शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में योगदान करते हैं। जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है, यह एक संपूर्ण शारीरिक व्‍यायाम है जो शक्ति और योग का संयोजन बनाता है। जिससे आपको वेट लॉस में मदद मिलती है। वास्तव में, करीना कपूर खान और शिल्पा शेट्टी जैसी बॉलीवुड अभिनेत्रियां भी फिट रहने के लिए इस योग पर भरोसा करती हैं।

सूर्य नमस्कार और इसके फायदे

योग में सूर्य नमस्‍कार आपको अजस्र ऊर्जा के स्रोत का लाभ उठाने का अवसर देता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

यह न केवल आपके शरीर और कोर की मांसपेशियों को मजबूत करता है, बल्कि रक्त परिसंचरण को भी बढ़ाता है। यह आपकी श्वास को सिंक्रनाइज़ करने के साथ ही आपके शरीर को एक अच्छी शेप भी देता है।

हमारा शरीर तीन तत्वों से बना है – कफ, पित्त और वात, और जब आप नियमित रूप से सूर्य नमस्कार का अभ्यास करती हैं, तब आप तीनों का संतुलन प्राप्त करती हैं। इससे स्थिरता के साथ, आपका शरीर अधिक लचीला हो जाएगा, आपकी त्वचा में चमक आएगी, आपके पाचन तंत्र में सुधार होगा, और आप अपने मानसिक स्वास्थ्य में भी सुधार देखेंगी।

इसके लिए कोई खास नियम निर्धारित नही है कि आप सुबह इस व्यायाम को अवश्य करें, लेकिन सुनिश्चित करें कि आप इसे खाली पेट करें।

सूर्य नमस्कार के साथ करें वजन कम

जब आप नियमित रूप से सूर्य नमस्कार करने का निर्णय लेती हैं, तो सबसे अच्छी बात यह है कि आपको जिम जाने या किसी अन्य जोरदार अभ्यास करने की आवश्यकता नहीं है। आपको बस एक योगा मैट की जरूरत है और इसे आप कहीं भी शुरू कर सकती हैं। अपने दिमाग को शांत करने और अपने मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए आप इसके पहले और बाद में मेडीटेशन का भी अभ्‍यास कर सकती हैं।

शोध बताते हैं कि सूर्य नमस्कार का प्रत्येक राउंड 13.90 कैलोरी बर्न करता है। आदर्श रूप से इसे 12 रिपीटेशन में करना चाहिए। बेशक, इसकी धीरे-धीरे शुरुआत करें और फिर 12 सूर्य नमस्कार तक जाएं, जो आपको 416 कैलोरी बर्न करने में मदद करेंगे। साथ ही, प्रत्येक राउंड में केवल 3.5 से 4 मिनट लगते हैं। इसलिए हर दिन एक घंटे का अभ्यास करें। निश्चित ही आपको इसके बहुत अच्छे परिणाम दिखाई देंगे।

अब जानिए सूर्य नमस्कार करने का सही तरीका

सूर्य नमस्‍कार के विभिन्‍न आसन आपके शारीरिक और मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य के लिए लाभकारी हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
सूर्य नमस्‍कार के विभिन्‍न आसन आपके शारीरिक और मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य के लिए लाभकारी हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

1. प्रणामासन (Prayer Pose)

अपनी योगा मैट पर सीधी खड़ी हो जाएं और अपने पैरों को एक-दूसरे के करीब रखें। गहरी सांस लें, अपनी छाती का विस्तार करें और अपने कंधों को शिथिल रखें। जैसे ही आप सांस लेती हैं, अपनी भुजाओं को बगल से उठाएं और सांस छोड़ते हुए अपनी हथेलियों को प्रार्थना की स्थिति में छाती के सामने एक साथ लाएं।

2. हस्त उत्तानासन (raised arms pose)

प्रार्थना मुद्रा की तरह, अपनी हथेलियों को जोड़कर रखें। एक गहरी सांस लें और अपनी बाहों को उठाएं। अब, अपने बाइसेप्स को अपने कानों के पास रखते हुए, थोड़ा पीछे की ओर झुकें।

3. हस्त पादासन (standing forward bend pose)

सांस बाहर निकालते हुए और रीढ़ को सीधा रखते हुए कमर से आगे की ओर झुकें। फर्श को छूने की कोशिश करें। जैसा कि आप मुद्रा करते हैं, धीरे-धीरे और अच्छी तरह से सांस छोड़ें।

4. अश्व संचालनासन (lunge pose)

थोड़ा अपने घुटनों को मोड़ें, ताकि आपकी हथेलियां आपके पैरों के पास फर्श पर आराम से बैठ सकें। एक गहरी सांस लें और धीरे-धीरे अपने दाहिने घुटने को अपनी छाती के दाईं ओर लाएं, और अपने बाएं पैर को पीछे की ओर खींचें। अपने सिर को उठाएं और आगे की ओर देखते रहें।

5. चतुरंग दंडासन (plank pose)

सांस लें और अपने दाहिने पैर को वापस लाएं। अब, आपके दोनों हाथ आपके कंधों के ठीक नीचे होंगे। सुनिश्चित करें कि आपका शरीर जमीन के समानांतर है।

6. अष्टांग नमस्कार (eight-limbed pose)

चतुरंग दंडासन के बाद सांस बाहर छोड़ें और धीरे-धीरे अपने घुटनों को फर्श की तरफ नीचे लाएं। अपनी ठुड्डी को फर्श पर रखें और कूल्हों को हवा में लटकाए रखें। आपके हाथ, घुटने, ठोड़ी और छाती जमीन पर आराम करेंगे, जबकि आपके आसन सही होने पर हवा में निलंबित रहेंगे।

सूर्य नमस्‍कार आपके शरीर को शेप में लाता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
सूर्य नमस्‍कार आपके शरीर को शेप में लाता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

7. भुजंगासन (cobra pose)

अपने पैर और शरीर के बीच के हिस्से को जमीन पर फ्लैट रखें। अपनी हथेलियों को अपनी छाती के बगल में रखें। गहरी सांस लें और हाथों पर दबाव डालें, जिससे आपका शरीर ऊपर उठे। आपका सिर और धड़ इस मुद्रा में उभरे हुड के साथ एक कोबरा जैसा होगा।

8. अधोमुख श्वानासन (downward-facing pose)

आपकी हथेली और पैर जहां हैं उन्हें वहीं बनाए रखते हुए, सांस छोड़ें और धीरे से अपने कूल्हे को शरीर के साथ एक वी आकार बनाएं। अपनी कोहनी और घुटनों को सीधा करें और नाभि की ओर देखें।

9. अश्व संचालनासन (high-lunge pose)

बाएं पैर को पीछे की ओर रखते हुए और आगे देखते हुए, साथ ही अपने दाएं पैर को आगे लाते हुए अश्व संचालान मुद्रा में वापस जाएं।

10. हस्त पादासन (standing forward bend pose)

श्वास लें और बाएं पैर को आगे लाएं, ताकि वह दाहिने पैर के बगल में हो। हाथों की स्थिति को बरकरार रखते हुए, सांस छोड़ते हुए और धीरे-धीरे धड़ को मोड़ें और हस्त पादासन मुद्रा में प्रवेश करें।

सूर्य नमस्‍कार संपूर्ण व्‍यायाम माना गया है। चित्र: शटरस्‍टॉक

11. हस्त उत्तानासन (raised arms pose)

श्वास लें और ऊपरी शरीर को उठाएं। हथेलियों को मिलाएं और अपनी बाहों को सिर के ऊपर उठाएं। स्टेप 2 की तरह पीछे की ओर झुकें।

12. प्रणामासन (Prayer Pose)

सांस छोड़ें और आराम से सीधे खड़े हो जाएं। बाहों को नीचे करें और हथेलियों को अपनी छाती के सामने रखें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here