महाराष्ट्र में सरकार बनाने पर खींचतान फिलहाल जारी है। इसी बीच, बुधवार (30 अक्टूबर, 2019) को शिवसेना ने बड़ा दावा किया। पार्टी के वरिष्ठ नेता संजय राउत ने कहा कि महाराष्ट्र की कुंडली उनका दल ही बनाएगा। कुंडली में कौन सा ग्रह कहां रखना है और कौन से तारे जमीन पर उतारने हैं, किस तारे को चमक देनी है…इतनी ताकत आज भी शिवसेना के पास है।

बकौल राउत, “जिसके पास भी 145 सीटों का बहुमत होगा, फिर चाहे वह राजनेता हो या विधायक, वह महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री बन सकता है। राज्यपाल भी उसी को न्यौता देंगे, जिसके पास यह आंकड़ा होगा या वह सबसे बड़ा दल होगा, पर फिर भी उन्हें सदन में बहुमत साबित करना होगा।”

उन्होंने बताया कि सूबे के हित में पार्टी के लिए बीजेपी के नेतृत्व वाले गठबंधन में बने रहना जरूरी है, पर ‘‘सम्मान’’ से समझौता किए बगैर। उनके मुताबिक, “अगली सरकार बनाने में कोई जल्दबाजी नहीं है।” उन्होंने इसके साथ ही उन कयासों को भी खारिज कर दिया कि अगर नयी मंत्रिपरिषद के गठन में देरी होती है तो शिवसेना बंट सकती है।

उन्होंने बीजेपी प्रवक्ता संजय ककाड़े के उस दावे को भी सिरे से खारिज किया, जिसमें कहा गया था कि शिवसेना के 45 विधायक भगवा पार्टी के संपर्क में हैं और वे शिवसेना छोड़ना चाहते हैं । राउत ने कहा कि बीजेपी नेता ऐसा कहकर आधारहीन बातें कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here