नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट द्वारा अयोध्या मामले पर सभी पुनर्विचार याचिकाएं खारिज किए जाने के बाद जमीयत उलेमा-ए-हिंद के सदस्य अध्यक्ष मौलाना अरशद मदनी ने कहा कि हमें अफसोस है कि पुनर्विचार याचिका खारिज हुईं।

उन्होंने कहा कि पहले माना गया है कि मस्जिद अपनी जगह पर बनी है, यह भी माना कि जिन लोगों ने मस्जिद को गिराया वे मुजरिम हैं, फिर भी उन्हीं लोगों के हक में फैसला दे दिया।

हम समझ रहे थे कि इस फैसले पर कोर्ट फिर विचार करेगा इसलिए रीव्यू याचिका दाखिल की गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here