अनिता चौधरी
राजनीतिक संपादक

मध्यप्रदेश कांग्रेस के दो दिग्गज आमने सामने आ गये हैं। गौ माता को लेकर एमपी के मुख्यमंत्री कमलनाथ और काँग्रेज़ के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के बीच ट्विटर वॉर छिड़ी हुई है।

प्रिय दिग्विजय सिंह जी, आपने भोपाल- इंदौर हाईवे पर दुर्घटना का शिकार हो रही गौमाता का ज़िक्र करते हुए कहा कि इनकी सुरक्षा को लेकर सरकार को कुछ करना चाहिये तो आपकी जानकारी के लिये बता दूँ कि मैंने अभी कुछ दिनो पूर्व ही प्रदेश के सभी प्रमुख मार्गों पर , जहाँ बरसात के मौसम में खेतो की मिट्टी गीली होने की वजह से गौमाता सड़कों पर आकर बैठती है और वाहन दुर्घटना का शिकार होती है , उनकी सुरक्षा को लेकर चिंता जताते हुए अधिकारियों को एक कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिये है।

1000 गौशालाओं का निर्माण कार्य भी प्रगति पर है। अगले वर्ष तक 3000 गौशालाएँ बनाने का लक्ष्य है।गौशाला बनने के बाद ही गौमाता के सड़कों पर बैठने पर कमी आयेगी।

मैं इसको लेकर ख़ुद चिंतित हुँ। हम प्रमुख शहरों को आवारा पशु मुक्त बनाने की योजना पर भी काम कर रहे है। यह भी सच है कि हमारे लिये गौमाता सिसायत नहीं आस्था व गौरव का प्रतीक है। गौमाता की रक्षा व संवर्धन के लिये जो कार्य वर्षों में नहीं हो पाये है , वह हम करना चाहते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here