मनीष भट्टाचार्य

जयपुर। गुरुवार को देशभर में नेहरू जयंती मनाई गई। राजस्थान में भी इस अवसर पर कई कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। ऐसे ही एक कार्यक्रम में सूबे के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शिरकत की। इस प्रदेश स्तरीय कार्यक्रम में अशोक गहलोत ने करीब 30 मिनट का भाषण दिया, लेकिन इस दौरान जो गौर करने वाली बात वो ये थी कि इन 30 में से 25 मिनट अशोक गहलोत के भाषण के केंद्र में पीएम मोदी और आरएसएस रहे।

अपने भाषण में अशोक गहलोत ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री जादू दिखाते हैं लेकिन मैं बोलना चाहता हूं कि मैं उनसे बड़ा जादूगर हूं। गहलोत ने कहा कि प्रदेश ब्यूरोकेसी मे कई अधिकारी आरएसएस की विचारधारा के भरे हुए हैं। गहलोत यहीं नहीं रुके अपनी भड़ास निकालते हुए उन्होंने कहा कि देश की आजादी मे भाजपा व आरएसएस का योगदान न के बराबर रहा है। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा व आरएसएस के लोग अंग्रेज के मुखबिरी का काम करते रहे है और ये अंग्रेजो के पिठ्ठू थे।

गहलोत के इस बयान को लेकर उनकी सरकार के मंत्री भी तरफदारी करते हुए नजर आए। उच्च शिक्षा मंत्री सुभाष गर्ग से इस बारे में सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि गलत तो कुछ भी नहीं कहा गया है ये इतिहास में लिखा हुआ है। नया कुछ भी नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here