विशेष संवाददाता

एआईएएम के सदर सांसद ओवैशी सुप्रीम कोर्ट के फैसले से सहमत नहीं हैं । उन्होंने कहा कि कोर्ट ने तथ्यों की कीमत पर आस्था को तरजीह देते हुए फैसला किया है। यहाँ ओवैशी गलत बोल रहे हैं । सच तो य। है कि न्यायाधीशों ने तथ्यों के आधार पर ही फैसला दिया है।

उन्होंने कहा कि मुस्लिम पक्षकारो के वकीलों ने पैरवी के मामले मे जो मेहनत की उसका सम्मान है। मुस्लिमों को खैरात मे जमीन नहीं चाहिए । मस्जिद बनाने के लिए पांच एकड़ जमीन हम खरीद सकता है । सरकार की ओर से जमीन लेने की जरूरत नहीं है।
कोर्ट ने 1992 में बावरी ढाचा गिराये जाने के जुर्म को फैसले मे शामिल नहीं किया।

ओवशी पर केस किया जाय – रामदेव

सबसे विवादास्पद बयान देते हुए ओवैशी ने कहा कि देश अब हिन्दू राष्ट्र की ओर बढ़ रहा है। इस बयान से नाराज स्वामी रामदेव ने ओवैशी पर केस करने की माँग की है।

ओवैशी से इसी तरह की प्रतिक्रिया की उम्मीद थी भी। वह अगर जहर नहीं उगलेगे तो उनकी राजनीति कैसे चलेगी ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here