लखनऊ संवाददाता

लखनऊ। दुष्कर्म का केस वापस लेने से इन्कार पर पेट्रोल छिडक कर जलाई गई उन्नाव की बेटी की शुक्रवार रात मौत के बाद शनिवार को जम कर सियासत के साथ   हंगामा भी हुआ। विपक्ष के नेताओं ने यूपी की योगी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं ने घटना पर दुख प्रकट करते हुए सरकार से जल्द पीडिता को इंसाफ देने की मांग की है।

सपा मुखिया अखिलेश यादव विधानसभा के सामने धरने पर बैठ गए। सरकार पर तीखा हमला बोला। उन्होंने कहा कि आरोपी भाजपा से जुड़े हैं, इसलिए सरकार ने कार्रवाई नहीं की। अखिलेश के जाते ही कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने भाजपा मुख्यालय पर हल्ला बोल दिया। कुछ कार्यकताओं ने विधानसभा के सामने प्रदर्शन कर दिया। इस पर पुलिस ने हत्का बल प्रयोग कर सभी को खदेड़ा। इसी बीच दुष्कर्म पीड़िता के परिवार से मिलने के लिए प्रियंका वाड्रा उन्नाव पहुंचीं। वहां उन्होंने परिवारीजन से मुलाकात कर सांत्वना दी

प्रियंका ने बंद कमरे में परिवार से बात की

कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा शनिवार को दोपहर 12.05 पर दुष्कर्म पीड़िता के उन्नाव स्थित गांव पहुंचीं। बिना किसी से कोई बातचीत किए वह पीड़ित परिवार को साथ लेकर कमरे में चली गईं, जहां पर उन्होंने परिवारीजन से बातचीत की। इसके पहले प्रियंका गांधी ने ट्वीट के जरिये संवेदना और सरकार के प्रति रोष व्यक्त किया। प्रियंका से मुलाकात के बाद पीड़िता की भाभी ने कहा कहा कि उन्होंने आश्वासन दिया है कि वह हमारे साथ न्याय के लिए लड़ेंगी। हमारी एकमात्र मांग यह है कि दोषियों को मृत्यु दंड दिया जाए, तभी पीड़िता की आत्मा को शांति मिलेगी।

प्रदेश सरकार को देना चाहिए इस्तीफा : प्रियंका

दुष्कर्म पीड़िता के परिवार से 20 मिनट तक बात करके निकलीं प्रियंका वाड्रा ने कहा कि उन्नाव में जिस तरह दुष्कर्म पीड़िता की मौत हुई है, उससे साफ है कि उन्नाव में महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं। सरकार को नैतिक रूप से इस्तीफा देना चाहिए। प्रियंका ने कहा कि प्रदेश की भाजपा सरकार मे महिला उत्पीड़न की घटना बढ़ रही है। दुष्कर्म पीड़िता और उसके परिवार को बराबर धमकी मिल रही थी, लेकिन पुलिस ने कोई एक्शन नहीं लिया। साथ ही कहा कि मुख्यमंत्री इस सवाल का जवाब दें कि आखिर प्रदेश में महिलाओं का क्या स्थान है ?  कल जिस तरह से एक और बेटी की मौत हुई है उसने व्यवस्था पर सवाल खड़े कर दिए हैं। इसके लिए सरकार को इस्तीफा दे देना चाहिए।

आरोपित परिवार की महिलाओं की प्रियंका ने अनदेखी की

पीड़िता के परिवार से मिलकर प्रियंका निकलने लगी उसी दौरान आरोपित परिवार की महिलाओं के साथ करीब दो सौ से ज्यादा महिलाएं काफिले के आगे लेट गईं। महिलाएं प्रियंका से बात करना चाह रही थीं पर प्रियंका अपनी गाड़ी से नहीं उतरीं। महिलाओं के रास्ते से न हटने पर सुरक्षा कर्मियों ने उनको समझाया कि रास्ता दें प्रियंका उनसे बात करेंगी। इस आश्वासन पर महिलाएं किनारे हुईं, वैसें ही काफिला रफ्तार के साथ आगे बढ़ गया। आरोपितों के परिवार की महिलाओं का कहना था कि जो दोषी हैं सरकार उसको सख्त से सख्त सजा दे पर बेकसूरों को छोड़ा जाए। निष्पक्ष जांच कराने के लिए वह प्रियंका से सीबीआइ जांच की बात करना चाह रही थीं।

दोषियों को कड़ी सजा दिलाई जाएगी : योगी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उन्नाव की घटना को अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण और बालिका की मृत्यु को अति दुखद बताया है। उन्होंने परिवार के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि सभी आरोपी गिरफ्तार हो चुके हैं। मुकदमे को फास्ट ट्रैक कोर्ट में ले जाकर दोषियों को कड़ी सजा दिलाई जाएगी। उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने भी घटना को बेहद दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। उन्होंने कहा कि मैं पीड़ित परिवार को विश्वास दिलाता हूं  कि हम दोषियों को नहीं बख्शेंगे, उन्हें जल्द से जल्द सजा दिलवाएंगे। सीएम ने के निर्देश के बाद उन्नाव जिले के प्रभारी मंत्री कमल रानी वरुण और श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने दिवंगत पीड़िता के परिवारीजन से मुलाकात की।

उत्तर प्रदेश सरकार ने उन्नाव पीड़िता के परिवार को पच्चीस लाख रुपये के मुआवजे के ऐलान के साथ एक आवास देने की भी घोषणा की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here