विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) काशी महानगर इकाई की ओर से रविवार को सामाजिक समरसता गोष्ठी का आयोजन किया गया। इंग्लिशियालाइन स्थित भारतीय शिक्षा मंदिर में चल रहे समरसता सम्मेलन में अयोध्या में राम मंदिर निर्माण और सामाजिक समरसता के संकल्प पर चर्चा हुई।

मुख्य वक्ता के रूप में विहिप के केंद्रीय संगठन महामंत्री विनायक राव ने वर्तमान समय में सामाजिक समरसता की आवश्यकता बताते हुए हिन्दू समाज में फैली असमानता को जड़ से उखाड़ फेंकने के लिए सब हिन्दू एक रक्त एक माता की संतान, कोई ऊंच-नीच नहीं, एकात्म हिन्दू मूल मंत्र को सार्थक करने और जाति व्यवस्था के दुष्परिणाम पर मार्गदर्शन किया।

मुख्य अतिथि के रूप में रविदास मंदिर के महंत संत भारत भूषण ने ऐतिहासिक दृष्टिकोण से और विविध समाज के लोगों की जीवनी से समरस समाज के संकल्प के बारे में विचार व्यक्त किए।

विहिप काशी प्रान्त के महानगर अध्यक्ष कन्हैया सिंह ने कहा कि अयोध्या में रामजन्म भूमि पर मंदिर के निर्माण हेतु वर्षों के संघर्ष का परिणाम फलीभूत होने का समय निकट है। उन्होंने कहा ‘‘वर्ष 1984 से ही राम जन्मभूमि का मामला हमारी कार्ययोजना का केन्द्र बिन्दु रहा है और मंदिर निर्माण तक रहेगा।’’ उन्होंने विश्वास जताया उच्चतम न्यायालय का फैसला राम मंदिर के पक्ष में आएगा। फैसला आते ही भव्य राम मंदिर का निर्माण होगा।

समरसता सम्मेलन में विहिप नेता आंनद सिंह, बजरंग दल संयोजक निखिल त्रिपाठी ‘रुद्र’, सत्येंद्र सिंह, राजन तिवारी, कुलदीप सूर्या, दिव्यांशु ने विचार रखें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here